Monday, September 29, 2008

Poetry Competition - Completion!!

Poetry competition in our office has finished & I have already published my winning entry along with my other creations & the noteworthy responses to it. Now, as promised, I am publishing other noteworthy entries into competition, with full consent of the writers.

Entry by Shubhajit Kundu:
-----------------------------------------
तेरे आने की आस हैं, तुझे पाने की प्यास हैं;
शायद यही-कहीं हैं तू, ऐसा मुझे आभास हैं;
इधर-उधर जाने किधर-किधर ढूँढता हूँ तुझे;
खोजती होगी दर-बदर तू, तुझे भी मेरी तलाश हैंll

बेरोका मेरा मन, बेकाबू मेरे हवास हैं;
जी रहे ऐसे बेकरार की, इंतज़ार भी छोटा अल्फाज़ हैं;
चुपके-चुपके से आना, दिलोदिमाग पर छा जाना;
दुनिया हिला जाना, यही तोह, मगर, इश्क का अंदाज़ हैंll
-कुंडू

Tere aane ki aas hain, tujhe paane ki pyaas hain;
Shayad yahi-kahin hain tu, Aisa mujhe aabhaas hain;
Idhar-udhar jaane kidhar-kidhar dhoondta hoon tujhe;
Khojti hogi dar-badar tu, Tujhe bhi meri talaash hain!

Be-roka mera mann, be-qabu mere hawaas hain;
Ji rahe aise beqaraar ki, intezaar bhi chota alfaaz hain;
Chupke-chupke se aana, Dil-o-dimag par cha jana;
Duniya hila jaana, Yahi toh, magar, Ishq ka andaaz hain!!
-Kundu

Entry by Paresh More:
----------------------------------
तेरे आने की आस हैं, तुझे पाने की प्यास हैं;
दूर होते हुए भी तू, मेरे दिल के कितने पास है;
तेरे बिना मेरा जीवन बड़ा उदास है,
खुदा से क्यू पूछते हो, कभी मेरे दिल से पूछो;
यह मेरा तनहा दिल, तेरे बिना कितना उदास हैll

बस, तेरे आने की आस हैं, तुझे पाने की प्यास हैं;
न जाने फिर अपनी मुलाक़ात कब होगी,
जो अधूरी रही, वोह बात कब होगी,
दिल तोह लम्हा लम्हा आपकी याद मे डूबा,
अब शाम के बाद न जाने रात कब होगी,
अब बस तेरे आने की आस हैं, तुझे पाने की प्यास हैंll
- परेश

Tere aane ki aas hain, tujhe paane ki pyaas hain;
Door hote huye bhi tu, mere dil ke kitne pass hai;
Tere bina mera jewaan bada udaas hai,
Khuda se Q puchhate ho, kabhi mere dil se puchho;
yeh mera tanaha DIL, tere bina kitna udass hai!

Bas, Tere aane ki aas hain, tujhe paane ki pyaas hain;
Na jane phir apni mulaqat kab hogi,
Jo adhuri rahi, woh baat kab hogi,
Dil toh lamha lamha apki yaad mai dooba,
Ab shaam ke baad na jane raat kaab hogi
Ab bas Tere aane ki aas hain, tujhe paane ki pyaas hain!!
- Paresh

Entry by Prashant Bhole:
---------------------------------------
नया कवि
-------------
जीवन में न कभी पडी थी कोई कविता,
जीवन में न मिली कोई कविता,
अपनी ख़ुद की कविता कराने का प्रयत्न करता हूँ,
और आप सब लोग न सो जाए ऎसी अपेक्षा करता हूँ ||

आरम्भ तो कर दिया है परन्तु विषय क्या है पता नहीं,
और विषय खोजने के लिए मधुशाला जाने का समय भी मिला नही,
सोचता हूँ अपना फ्रेमवर्क ही इस्तेमाल कर लूँ,
"ना तेरे आने की आस है ना तुझे पाने की प्यास है "

जाने दो यारो कविता मेरे बस की बात नही है,
एक शेर ही सुना देता हूँ, अर्ज़ हैं,

टेबल दारु से सजा राखी है, हर रंग की दारु माँगा राखी है,
न जाने कहा से आयेगा मेरा यार, हमने हर गली बोतलों से सजा रखी है l
- प्रशांत


Nayaa kavi
-----------------
Jeewan men na kabhi padhi thi koi kavitaa,
Jeewan men na milii koee kavitaa,
Apni khud ki kavitaa karane ka prayatn karataa hoon,
Aur aap sab log na so jaaye aisii apekshaa karataa hoon!

Aarambha to kar diyaa hai parantu vishay kyaa hai pataa nahin,
Aur vishay khojane ke liye madhushala jane ka samay bhi mila nahi,
Sochataa hoon apanaa framework hi istemaal kar loon,
"Na Tere aane ki aas hai Na tujhe paane ki pyaas hai"

Jane do yaaro kavita mere bas ki baat nahi hai,
Ek sher hii sunaa detaa hoon, arz hain,

Table daaru se sajaa raakhi hai, har rang ki daaru mangaa rakhi hai,
Na jane kahaa se aayegaa mera yaar, hamane har gali botalon se sajaa rakhi hai!!
- Prashant

2 comments:

Subhajit Kundu 9/29/08, 7:11 PM  

एक घटिया शायर
============

ना तेरे आने की आस हैं, ना तुझे पाने की प्यास हैं,
ना ही खोटी करने को टाइम मेरे पास हैं,
अगर हैं, वही रह जहाँ हैं, अपुन यहाँ बिंदास हैं.

Vikash Kumar 9/30/08, 10:24 AM  

शायर भी कही घटिया हुआ करते हैं, नादाँ,
बस हर शायर का अलग अंदाज़ हैं,
अब खोटी कर या कर खरी, करता तोह तू भी टाइम पास हैं :)

About This Blog

Followers

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP